जेट एयरवेज ने क्रू को ऑफ ड्यूटी करने का सुनाया फरमान
केबिन क्रू की लापरवाही से खतरे में पड़ी 166 यात्रियों की जान
Share

जेट एयरवेज ने क्रू को ऑफ ड्यूटी करने का सुनाया फरमान

– NDI24 नेटवर्क
मुंबई. जेट एयरवेज के केबिन क्रू की लापरवाही के चलते आज विमान में मौजूद 166 यात्रियों की जान खतरे में पड़ गई। मुंबई से जयपुर के लिए का जा रही जेट एयरवेज की फ्लाइट संख्या 9डब्ल्यू 697 को आपात स्थिति में वापस मुंबई में लैंड करना पड़ा। दरअसल, केबिन क्रू फ्लाट के अंदर टेकऑफ के दौरान का प्रेशर मेंटेन रखने वाले स्विच को दबाना भूल गया, जिसके चलते फ्लाइट के अंदर का दबाव अनियंत्रित हो गया और लगभग 30 यात्रियों के नाक और कान से खून बहने लगा। ऐसी स्थिति में फ्लाइट अंदर मौजूद सभी ऑक्सीजन मास्क यात्रियों के सामने नीचे आ गए। विदित हो कि इस फ्लाइट ने आज सुबह तय समय से तीन मिनट पहले 5 बजकर 52 मिनट पर उड़ान भरी। बीच रास्ते पर 6 बजकर 12 मिनट पर यूटर्न लिया और 7 बजकर 24 मिनट पर वापस मुंबई में ही इमरजेंसी लैंडिग की। एयरपोर्ट पर पहले से ही एंबुलेंस मौजूद थी, बीमार यात्रियों को फौरन इलाज के लिए ले जाया गया। बहरहाल, स्थितियों पर काबू पाने के बाद फ्लाइट को करीब 10:15 बजे पुनः जयपुर के लिए रवाना किया गया।

सभी यात्रियों की जा सकती थी जान…

इस मामले में डीजीसीए ने बताया कि एयरक्राफ्ट एक्सिडेंट इन्वेस्टिगेशन ब्यूरो (AAIB) ने जांच शुरू कर दी है। फिलहाल जेट एयरवेज की तरफ से बताया गया जांच पूरी होने तक पूरे क्रू को ऑफ ड्यूटी कर दिया गया है। वहीं इस पूरे मामले पर एयरवेज ने खेद जताया। खबरों की मानें तो फ्लाइट अगर कुछ देर और हवा में रहती तो बहुत बड़ा नुकसान हो सकता था, यहां तक कि विमान में सवार सभी यात्रियों की जान भी जा सकती थी। जानकारों की मानें तो मनुष्य का शरीर समुद्र स्तर पर रहने के लिए बना है, जैसे-जैसे कोई भी आदमी जमीन से ऊपर जाता है, दाब कम होता जाता है। इसी स्थिति से निपटने के लिए फ्लाइट में प्रेशराइजेशन की व्यवस्था की जाती है।

Share