Video Story : धारावी पुनर्विकास को लेकर सिर्फ चाय-पानी में खर्च हो गए 200 करोड़, बाबूराव माने का दावा
Share

Asia की सबसे बड़ी झोपड़पट्टी धारावी के प्रत्येक लोगों में अशांति का माहौल

– NDI24 नेटवर्क
मुंबई.
एशिया की सबसे बड़ी झोपड़पट्टी धारावी के प्रत्येक लोगों में अशांति का माहौल है। दरअसल, धारावी पुनर्विकास के टेंडर को अभी हाल ही में महाराष्ट्र सरकार की कैबिनेट ने रद्द कर दिया है। यह तीसरी बार है, जो टेंडर रद्द किया गया है। लेकिन स्थानीय लोगों का मानना है कि यह निर्णय उनके साथ ठीक नहीं हुआ है। वहीं शिवसेना के पूर्व विधायक व धारावी बचाओ आंदोलन के अध्यक्ष बाबूराव माने ने गुरुवार को प्रेस वार्ता में कहा कि पिछले 17 वर्षों से धारावी के पुनर्विकास को लेकर चाय-पानी, सरकारी मीटिंग आदि में 200 करोड़ से भी ज्यादा रुपया पानी में बहाया जा चुका है, जो बेहद गंभीर है। वहीं उन्होंने ऐलान किया है कि धारावी के लोगों को निराश होने की जरूरत नहीं है और धारावी के पुनर्विकास के लिए हर तरह के आंदोलनों का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान धारावी बचाओ आंदोलन के अध्यक्ष बाबूराव माने के साथ शंकर बली, धनंजय माने, संजय कांबले, वीर समेत कई कार्यकर्ता मौजूद थे।

सरकार नए सिरे से जारी करेगी निविदाएं…

विदित हो कि महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे की महाविकास आघाडी सरकार की कैबिनेट ने 2018 में देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व वाली सरकार की ओर से संचालित धारावी पुनर्विकास के लिए टेंडर रद्द करने का फैसला किया। दुनिया की सबसे बड़ी झुग्गी में से एक धारावी में पिछले डेढ़ दशक से पुनर्विकास की प्रतीक्षा की जा रही है। लेकिन सरकार ने आखिरकार टेंडर रद्द करने का फैसला किया। अब सरकार नए सिरे से निविदाएं जारी करेगी।

CM से जल्द मुलाकात करेंगे माने…

बाबूराव माने ने आगे कहा कि जहां मंत्रीगण हजारों फुट एरिया में रहते हैं, वहीं धारावी वासियों को सिर्फ 400 वर्ग फुट की दरकार है। साथ ही महाविकास अघाड़ी सरकार के कई मंत्रियों समेत मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने विकास का वादा किया है और संभव है कि इस सरकार में धारावी के पुनर्विकास को लेकर जोरशोर से शुरुआत भी कर दी जाए। इसके लिए हम जल्द ही मुख्यमंत्री से मुलाकात करने वाले हैं।

हर तरह से तैयार हैं हम…

हमें महाराष्ट्र की उद्धव सरकार से काफी उम्मीदें हैं कि धारावी का पुनर्विकास जल्द से जल्द शुरू किया जाएगा। इसलिए हम अपने धारावी वासियों के विकास के लिए हर तरह के आंदोलन करने को तैयार हैं।
– बाबूराव माने, अध्यक्ष, धारावी बचाओ आंदोलन

Share