छापेमारी में 51 करोड़ के साथ पहले पायदान मुंबई, एयरपोर्ट से जप्त हुआ करोड़ों का सोना
आचार संहिता के बाद से 99.97 करोड़ का कैश
Share

छापेमारी में 51 करोड़ के साथ पहले पायदान मुंबई, एयरपोर्ट से जप्त हुआ करोड़ों का सोना

– NDI24 नेटवर्क

मुंबई. लोकसभा चुनाव को लेकर महाराष्ट्र का मुंबई धांधली में सबसे ऊपर है, जिसके चलते 51 करोड़ का कैश, ड्रग्स, अल्कोहल जब्त किया गया। इसी के साथ चुनाव आयोग की रेट में मुंबई के बाद नागपुर में 2.75 करोड़, चंद्रपुर में 1.72 करोड़ सीज किए गए हैं। चुनाव आचार संहिता के अंतर्गत टोटल 99.97 करोड़ के कैश अल्कोहल और ड्रग्स की छापेमारी में मुंबई 51 करोड़ के साथ पहले पायदान पर है। मुंबई के एयरपोर्ट पर भी कई करोड़ रुपए व अल्कोहल जप्त किया गया। एयरपोर्ट से आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद 30.36 करोड़ का सोना भी जप्त हुआ है।

मुंबई में होगी चौथे चरण में वोटिंग…

राज्य चुनाव आयोग के एक सीनियर अधिकारी के अनुसार, मुंबई, ग्रेटर मुंबई, नवी मुंबई, ठाणे और पुणे, नागपुर में सबसे ज्यादा छापेमारी हुई, जिसमें बड़ी मात्रा में सामान और कैश जप्त किया गया। मुंबई में चौथे चरण में वोटिंग होनी बाकी है। मुंबई में छह लोकसभा सीटें हैं, लेकिन महाराष्ट्र के बाकी जगहों की अपेक्षा मुंबई में ज्यादा सामान और कैश पकड़ा जा रहा है। पहले चरण में 8 जिलों के सात सीटों पर मतदान के दौरान बड़ी मात्रा में कैश और सामान मिला है, जिसमें नागपुर, चंद्रपुर, रामटेक, वर्धा, वाशिम शामिल हैं।

23 दिनों में 23 लाख लीटर मदिरा जप्त…

चुनाव अधिकारी की मानें तो अहमदनगर के कैश की बात करें तो 1 अप्रैल तक 195 लीटर दारू पकड़ी गई, जिसकी कीमत 23 हजार 792 रुपए कैश थी, साथ ही 15 सो रुपए कैश का 6 किलो गांजा पकड़ा गया था।  अहमदनगर में तीसरे चरण में 23 अप्रैल को मतदान होगा। यहां पर हमने 23 लाख की शराब जप्त की, जो कि अब तक 1,02,370 लीटर हो गई है। वहीं अहमदनगर में अभी इस तरह की हरकतें बढ़ सकती हैं। यहां रोजाना करीब 60-70 जगहों पर छापेमारी की जा रही है और हर रोज लगभग डेढ़ सौ लीटर शराब जप्त हो रही है। मुंबई, नागपुर, चंद्रपुर में सबसे ज्यादा शरारत की गई थी। यानी बीते करीब 23 दिनों में पूरे महाराष्ट्र से 23 लाख लीटर मदिरा जप्त की गई है।

कुछ तो पकड़े भी नहीं जाते…

अधिकारी ने आगे कहा कि शराब के अलावा चरस, गांजा और गुटखा भी शहरी इलाकों जैसे मुंबई, ठाणे, नवी मुंबई और पुणे में पकड़े जा रहे हैं। इतनी बड़ी मात्रा में इन चीजों का पकड़ा जाना पॉलीटिकल पार्टीज के पावर और पैसे के रुतबे को दर्शाता है, वहीं कुछ तो पकड़े भी नहीं जाते। बता दें कि यह पूरा डाटा एडिशनल चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफीसर महाराष्ट्र दिलीप शिंदे के ऑफिस से प्राप्त हुए हैं।

Share