अब हजारों करोड़ रुपये के कोरोना क्लेम और IRDAI के स्टैंडर्ड नियम होंगे लागू, करीब 10 प्रतिशत बढ़ोतरी

– NDI24 नेटवर्क
मुंबई.
महंगाई की एक और मार खाने लिए तैयार रहिए, क्योंकि 1 अप्रैल से आपके स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) का प्रीमियम (Premium) बढ़ सकता है। ये बढ़ोतरी करीब 10 परसेंट हो सकती है। कोरोना की वजह से हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों ने प्रीमियम में बढ़ोतरी को अब तक रोक रखा था, लेकिन अब हजारों करोड़ रुपये के कोरोना क्लेम (Corona Claim) और IRDAI के स्टैंडर्ड नियम लागू होने के बाद कंपनियों को प्रीमियम बढ़ाने पर मजबूर होना पड़ रहा है।

प्रीमियम बढ़ना बिल्कुल तय…

ज्यादातर कंपनियां अपने प्रीमियम को नए फाइनेंशियल ईयर (New Financial Year) की शुरुआत से रिवाइज करती हैं। ऐसे में 1 अप्रैल 2021 से कंपनियां हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी (Policybazaar.com) का प्रीमियम बढ़ा सकती हैं। एक नजर डालते हैं, उन वजहों पर जिसकी वजह से हेल्थ इंश्योरेंस का प्रीमियम बढ़ना बिल्कुल तय माना जा रहा है।

मेडिकल इंश्योरेंस पॉलिसी…

पहली वजह तो यह है कि इंश्योरेंस रेगुलेटर IRDAI ने कई गंभीर बीमारियों को मेडिकल इंश्योरेंस पॉलिसी में शामिल कर दिया है, कई ऐसी बीमारियां अब पॉलिसी में शामिल कर दी गई हैं। मानसिक दिक्कतों, जेनेटिक बीमारियों (Genetic disorder), न्यूरो संबंधी विकारों और मनोवैज्ञानिक (Psychologist) बीमारियों को इंश्योरेंस पॉलिसी में शामिल कर लिया गया है। इसलिए बीमा का प्रीमियम बढ़ना तय है।

Characters of people holding insurance icons illustration

बीमा कंपनियों पर सबसे बड़ा बोझ…

दूसरी बड़ी वजह है कि हजारों करोड़ रुपये के कोरोना क्लेम। बीमा कंपनियों के पास 14 हजार करोड़ रुपये के भारी भरकम दावे आए हैं, जिसमें से 9 हजार करोड़ रुपये के दावे कंपनियां सेटल कर चुकी हैं, बाकी को सेटल किया जा रहा है। ये बीमा कंपनियों पर सबसे बड़ा बोझ है, जिसकी वसूली प्रीमियम बढ़ाकर की जाएगी।

मेडिकल के क्षेत्र में लागत 18-20 प्रतिशत…

एक बड़ी वजह है मेडिकम इन्फ्लेशन। मेडिकल के क्षेत्र में लागत 18-20 प्रतिशत बढ़ा है। इन वजहों से कंपनियों पर भार बढ़ा है। ऐसे में प्रीमियम बढ़ाना बीमा कंपनियों की मजबूरी होगी।

रूम रेंट में हटेंगे बाकी चार्जेज…

अब रूम रेंट के अनुपात में बाकी चार्जेज हटने से भी प्रीमियम पर असर पड़ेगा, पहले कंपनियां रूम रेंट के रेश्यों में बाकी खर्चों जैसे टेस्ट वगैरह पर प्रीमियम काट लेती थीं, लेकिन अब वो ऐसा नहीं कर पाएंगी। उन्हें रूम रेंट के अलावा बाकी चार्जेज भी देने होंगे, जिसकी वजह से प्रीमियम बढ़ना तय है।

Share