श्री राम जन्मभूमि मंदिर ट्रस्ट के सचिव चम्पत राय क्या भू-माफिया है?, इंडोनेशिया से आकर संघर्ष कर रही महिला

धर्मार्थ श्री कृष्ण गौशाला की 20 हजार मीटर जमीन पर अवैध डिग्री कॉलेज, दबाव में प्रशासन नहीं कर रहा मदद

– NDI24 नेटवर्क
लखनऊ. अपने गृह नगर में धर्मार्थ श्री कृष्ण गौशाला की 20 हजार मीटर जमीन (कीमत लगभग 50 करोड़ रुपये) पर अपने भाईयों से कब्जा कराकर, उस पर अवैध डिग्री कॉलेज बनवाया और उसे विश्वविद्यालय से मान्यता दिलवाई। गौशाला की मालिक अप्रवासी भारतीय महिला इंडोनेशिया (Indonesia) से आकर संघर्ष कर रही है पर प्रशासन चम्पत राय (Champat Rai) के दबाव में उनकी कोई मदद नहीं कर रहा। ऐसा उन्होंने फ़ोन पर बताया…।

पति इंडोनेशिया से नियमित भिजवा रहे पैसे…

दरअसल, इंडोनेशिया में रहने वाली अलका लहोटी (Alka Lahoti) के पिता ने गौसेवा की भावना से श्री कृष्ण गौशाला की स्थापना सन पचास के दशक में की थी। ये गौशाला पश्चिमी उत्तर प्रदेश के उपनगर नगीना (बिजनौर) के मध्य में स्थित है, जो आजकल राममंदिर भूमि खरीद विवाद में चर्चित चम्पत राय का भी गृह नगर है। लाहोटी के पति इंडोनेशिया से नियमित पैसे भेजकर यहां 150 गायों की सेवा कर रहे हैं।

विश्वविद्यालय से मान्यता दिलाने में भी चंपत की भूमिका…

इन्हें विदेश में बसा जानकर श्री राम जन्मभूमि ट्रस्ट के सचिव चम्पत राय के भाई बंधुओं ने इस गौशाला की 20 हजार मीटर जमीन पर अवैध कब्जा कर लिया और एक डिग्री कालेज की स्थापना कर दी। लोगों को भ्रमित करने के उद्देश्य से उस का नाम भी श्री कृष्ण डिग्री कॉलेज रख दिया। इस कॉलेज को बनवाने में उनके कुटुम्बियों ने चंपत राय के प्रभाव का खुल कर दबंगाई से प्रयोग किया। इस कॉलेज को विश्वविद्यालय से मान्यता दिलाने में भी चंपत राय की सक्रिय भूमिका रही।

2018 से लगातार संघर्ष कर रहीं लाहोटी…

तब अलका लाहोटी भागकर इंडोनेशिया से आईं और अपने परिवार की धर्मार्थ गौशाला को इन भूमफियाओं के कंजे से मुक्त कराने के लिए 2018 से हर स्तर पर लगातार संघर्ष कर रही हैं। इस पूरे कांड की सारी जानकारी संघ परिवार (RSS), भाजपा (BJP), उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) व उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा (Dinesh Sharma) समेत सभी महत्वपूर्ण लोगों को है।

मथुरा की लूट और बर्बादी जारी…

जिला प्रशासन की जांच में और इस कॉलेज को मान्यता देने वाले महात्मा ज्योतिबा फुले रुहेलखंड विश्वविद्यालय (Mahatma Jyotiba Phule Rohilkhand University) (Bareilly) की जांच रिपोर्ट में ये अवैध कब्जा सिद्द हो चुका है, पर चपत राय के राजनैतिक दबदबे के सामने सब चुप हैं। जैसे द ब्रज फाउंडेशन (The Braj Foundation) (वृंदावन) पर संघ के ही डॉ. कृष्ण गोपाल (Dr. Krishna Gopal) के नेतृत्व में हुए हमलों की सच्चाई जानकर भी ये सब लोग चार बरस से चुप्पी साधे हैं और जिसकी वजह से धाम सेवा के नाम पर डॉ. कृष्ण गोपाल के मोहरों द्वारा मथुरा (Mathura) की लूट और बर्बादी जारी है, जिसके अनेकों प्रमाण सामने आ चुके हैं।

लाहोटी ने भेजे 50 दस्तावेज…

लाहोटी ने मुझे फ़ोन पर बताया कि चम्पत राय से दशकों से उनके पारिवारिक संबंधों के कारण उन्होंने इस विषय में चम्पत राय से बार-बार फरियाद की तो चम्पत राय ने कहा कि ये भी (कब्जा करने वाले) अपने परिवार के लोग हैं और मैं पहले इनकी मदद कर चुका हूं, इसलिए अब मैं तुम्हारी कोई मदद नहीं कर सकता। लाहोटी ने मुझे लगभग 50 दस्तावेज भेजे हैं, जिन्हें पढ़कर ही सारा घोटाला साफ सिद्ध हो जाता है। आगे जांच की भी जरूरत नहीं है, जो प्रशासनिक स्तर पर हो चुकी है।

हर जगह कब्जे क्यों किए जा रहे हैं?

हिंदू समाज को सोचने वाली बात ये है कि गौसेवा का इतना ढोल पीटने वाली सरकार में गौशालाओं की ज़मीनों पर इस तरह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के उच्च पदाधिकारियों द्वारा अपने परिवारजनों को सामने करके हर जगह कब्जे क्यों किए जा रहे हैं? यही हाल गत चार वर्षों में मथुरा जिले की गौशालाओं का भी हुआ है, जिसकी जांच हो तो हजारों करोड़ की जमीन के घोटाले सामने आएंगे।

प्रवासियों के बीच खराब होगी सरकार की छवि…

योगी जी को तुरंत कड़े कदम उठाकर श्री कृष्ण गौशाला, नगीना (बिजनौर) को अवैध क़ब्ज़े से मुक्त करवाना चाहिये। इस कांड के दोषियों और उनके संरक्षकों पर सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई होनी चाहिये, वरना देश-विदेश के गौ सेवकों को बहुत पीड़ा होगी और योगी सरकार की छवि प्रवासी भारतीयों के बीच खराब भी होगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मदद की गुहार…

अलका का ट्वीट पढ़े, जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगाई है, पर दो बरस से उनकी वहां भी सुनवाई नहीं हुई। यह माजरा क्या है कि आत्ममुग्ध ‘राम राज्य’ में सनातन धर्म सेवी सच्चे लोगों को तो इस तरह प्रताड़ित किया जा रहा है और यशोदा मैया को भगवान श्री कृष्ण की प्रेयसी बताने वाले ढोंगियों को सदगुरु बताकर स्थापित किया जा रहा है?

हिंदू समाज को सोचना होगा…

इन चिंताजनक परिस्थितियों में हिंदू समाज को धृतराष्ट्र जैसा मोह त्याग कर सोचना होगा और मुखर होकर बोलना होगा, क्योंकि इस रवैए से तो राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ हिंदू धर्म को गर्त में धकेल रहा है? जिससे फिर निकलने में दशकों लग जाएंगे।

सौजन्य से :- @विनीत नारायण

vineetnarain.net
twitter.com/alka_lahoti/st…

NRI #Hindu #RamMandirTrust

Share