वन मंत्री संजय राठौड़ का इस्तीफे पर खुलकर बताया, दोबारा नहीं लगेगा लॉकडाउन

– NDI24 नेटवर्क
मुंबई.
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने विधान भवन में आयोजित बजट सत्र के दौरान गुरुवार को पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में कई मुद्दों पर खुलकर वार्तालाप की। इस मौके पर जहां उन्होंने वन मंत्री संजय राठौड़ का इस्तीफे पर खुलकर बताया तो वहीं हिंदुत्व के मुद्दे के अलावा उन्होंने कहा कि दोबारा राज्य में लॉकडाउन लगाने की जरूरत नहीं है। पत्रकारों के बीच हुई अनौपचारिक बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री के पेश हैं कुछ मुख्य अंश-

किसी विधायक को सौंपी जाएगी वन मंत्री की जिम्मेदारी…

राज्य के वन मंत्री संजय राठौड़ का इस्तीफा राजभवन पक पहुंच चुका है। मुझे समझ में नहीं आ रहा है कि उन्हें (भाजपा) इस्तीफा वहां क्यों नहीं मिल रहा है। इस प्रकरण में मैंने पहले ही स्पष्ट किया हुआ है कि जब तक वन मंत्री की जिम्मेदारी किसी अन्य को नहीं सौंपी जाती है, तब तक यह विभाग मेरे पास रहेगा। बजट सत्र खत्म होने के बाद वन मंत्री की जिम्मेदारी किसी विधायक को सौंपी जाएगी। एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि यदि राज्यपाल राठौड़ का इस्तीफा स्वीकार नहीं कर रहे हैं, तो मैं क्या कर सकता हूं।

राज्यपाल नियुक्त विधान परिषद मुद्दा…

ठाकरे ने कहा कि अभी राज्य में बजट सत्र चल रहा है। कुछ समय पहले ग्राम पंचायत का चुनाव हुआ। बिहार विधानसभा का चुनाव हुआ। विपक्ष के कुछ नेताओं सहित कई लोगों का कहना है कि दोबारा लॉकडाउन लगाने की जरूरत नहीं है। इसलिए मेरा सवाल है कि जब चुनाव कराने में कोविड का प्रोब्लम नहीं आता है, तो नियुक्ति करने में क्या प्रोब्लम हो रही है?

राज्यपाल विमान प्रकरण…

राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को सरकारी विमान का इस्तेमाल करने की अनुमति न देने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के कार्यकाल में नियमों में बदलाव किया गया कि सरकारी विमान का इस्तेमाल सिर्फ राज्य के सरकारी कार्यक्रम के लिए ही किया जाए। और विमान के इस्तेमाल करने की अनुमति का अधिकार मुख्यमंत्री को सौंपा गया था।

सरकारी विमान अनुमति देने में कोई आपत्ति नहीं है!

राज्यपाल को सरकारी विमान का इस्तेमाल करने की अनुमति देने में कोई आपत्ति नहीं है! पर कम से कम राज्य सरकार के पास यह रिकॉर्ड तो होना चाहिए कि आखिर राज्यपाल राज्य के किस सरकारी कार्यक्रम में जाने के लिए सरकारी विमान का इस्तेमाल करना चाहते हैं, क्योंकि सरकारी विमान के इस्तेमाल पर होने वाला खर्च जनता के पैसे से होता है।

जेड श्रेणी की सुरक्षा के बावजूद लापता हो गए थे प्रवीण तोगडिय़ा, शांत करने की साजिश

महाराष्ट्र को बदनाम न करें…

मैंने भाजपा से दूरी बनाई है हिंदुत्व से नहीं। वैसे भी भाजपा के पास हिंदुत्व का पेटेंट नहीं है। मुझे जो बोलना था। वह मैंने बोला और आगे भी बोलूंगा। चाहे किसी को सही लगे, चाहे गलत लगे। कोरोना काल के दौरान यूपी-बिहार के श्रमिकों के पलायन पर उद्धव ठाकरे ने कहा कि विपक्ष सरकार की आलोचना जरूर करें, लेकिन महाराष्ट्र को बदनाम न करें।

Share