रोजाना दो से तीन बार पांच मिनट तक अच्छे से लें भाप, वैज्ञानिकों ने बताया लाभकारी

– NDI24 नेटवर्क
लखनऊ. कोरोना वायरस का संक्रमण अब डराने लगा है। केंद्र व राज्य सरकार की तमाम कोशिशें भी नाकामयाब होती नजर आ रही हैं। हर कोई खुद को बचाना चाहता है और इसके लिए लोग तमाम तरीकें (Corona treatment at home) भी अपना रहे हैं। वैज्ञानिकों ने शुरू से ही स्टीम को फायदेमंद (Steaming benefits) बताया है। वहीं ताजे अध्ययन में यह बात साबित भी हो चुकी है कि रोजाना दो से तीन बार पांच मिनट तक भाप लेने से (Steaming 2 to 3 times daily for 5 minutes) कोरोना (corona virus infection) का फेफड़ों पर असर नहीं होगा।

संबंधित खबरें…

Covid-19 update : 1 मई से 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को वैक्सीन, सरकार ने की घोषणा

Covid-19 update : अगला एक हफ्ता कोरोना संक्रमण के लिहाज से बहुत महत्वपूर्ण, देश के नामी हेल्थ एक्सपर्टों की राय…

भाप लेने से नहीं होगा फेफड़ों पर कोई असर…

एक ताजा जानकारी के अनुसार, रोजाना भाप लेकर फेफड़ों को इतना मजबूत बनाया जा सकता है कि कोरोना वायरस का उन पर कोई असर नहीं होगा। फेफड़े सफलतापूर्वक कोरोना वायरस (Treatment of corona virus) का सामना कर सकते हैं।

संबंधित खबरें…

Covid-19 : सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने शुरू की यह योजना, ‘इम्यून इंडिया डिपॉजिट योजना’ का आगाज

Special story : वेंटीलेटर व ऑक्सीजन की कमी होगी दूर, Covid-19 मरीजों को मिलेगी राहत : डॉ. रमेश भारमल

वायरस को मात दिया जा सकता है : वैज्ञानिक

दरअसल, थर्मल इन एक्टिवेशन ऑफ सोर्स कोविड वायरस पर किया गया यह शोध मरीजों के लिए एक नई उम्मीद बनकर आई है। जिसे ‘जर्नल ऑफ लाइफ साइंस’ (Journal of Life Science) में प्रकाशित किया गया है। इसे किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (king george’s medical university lucknow) और संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान (sanjay gandhi postgraduate institute of medical sciences lucknow) के विशेषज्ञों ने अपने अनुभव के आधार पर भाप को फेफड़ों का सैनिटाइजर करार दिया है। वैज्ञानिकों का मानना है कि भाप लेने से वायरस को मात दिया जा सकता है।

संबंधित खबरें…

200 की कीमत ही क्या है?, Covid-19 के नियमों के उल्लंघन पर राज्य सरकार और BMC को कोर्ट से फटकार

महाराष्ट्र में Covid-19 : मृतक पत्रकारों के परिवार के सदस्यों को 50 लाख रुपये की मिले वित्तीय सहायता, इस RTI कार्यकर्ता ने की मांग

सांस लेने में होने वाली परेशानी होगी दूर…

वहीं SGPGI की माइक्रोबायोलॉजी की HOD डॉ. उज्ज्वला का कहना है कि स्टीम लेने से खांसी, बंद नाक में भी आराम मिलता है। इससे जमा बलगम भी पिघल जाता है, क्योंकि भाप श्वांस नलियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाकर इम्यूनिटी को मजबूत करता है और नाक व गले में जमे म्यूकस को पतला कर देता है, जिससे सांस लेने में होने वाली परेशानी दूर होती है। जब फेफड़ों (how to increase oxygen level) तक पर्याप्त ऑक्सीजन पहुंचता है तो वे स्वस्थ रहते हैं।

संबंधित खबरें…

कोविड-19 को लेकर Delhi High Court का यह है फरमान, कार में सफर करने वाले हो जाएं अलर्ट

देश में COVID का कहर, महाराष्ट्र के इस जिले में लगा लॉकडाउन

70 डिग्री सेल्सियस पर लें भाप…

तमाम वैज्ञानिक यह बात साफ चुके हैं कि इस बार कोरोना सीधे फेफड़ों पर असर कर रहा है। इसलिए युवा भी इसकी चपेट में आ रहे हैं। ऐसे में राहत भरी खबर यह है कि स्टीम पैरानैसल साइनस में छुपे वायरस को निष्क्रिय करने के साथ ही फेफड़ों में वायरस के जमाव को रोक सकती है। कई अन्य अध्ययनों के अनुसार, 50 डिग्री सेल्सियस पर भाप लेने से वायरस पैरालाइज हो सकता है, जबकि 60 डिग्री पर वह इतना कमजोर हो सकता है कि अंदर की इम्युनिटी ही उसे मात दे सकती है। वहीं 70 डिग्री सेल्सियस पर भाप लेने से वायरस पूरी तरह मर (Treatment of corona virus) सकता है।

संबंधित खबरें…

कोविड-19 के इस कठिन समय में महाराष्ट्र में गरमा रही राजनीति

Corona Virus : JEE Main की परीक्षा भी स्थगित, तारीखों को बढ़ा दिया गया आगे

नाक और मुंह खोलकर लें भाप…

विक्स, संतरे या नींबू का छिलका, लहसुन, टी ट्री ऑयल, अदरक, नीम की पत्तियां, इनमें से जो कुछ भी घर में मौजूद हों उसे सादे पानी में मिलाएं और दिन में तीन बार पांच मिनट तक भाप लें। भाप (research on steaming) नाक और मुंह खोलकर लें। इन सभी चीजों में एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं, जो वायरस को कमजोर करते हैं। स्टीम को कोरोना संक्रमित या स्वस्थ (healthy lungs) दोनों तरह के लोग सकते हैं। भले ही यह समय नाजुक है, लेकिन हमें पैनिक नहीं होना है। स्थिति का सामना हिम्मत और सकारात्मक सोच के साथ करें। याद रखिए लोग ठीक हो रहे हैं और सब ठीक हो जाएगा, इसीलिए घबराएं नहीं।

Share