Vasai में रहिवासी से दबंगई

पुलिस से व्यवसायिक संबंध है, परिवार समेत UP भेजने की दी धमकी

– NDI24 नेटवर्क
वसई. अंतर्गत स्थानिक रहिवासी की दबंगई के कारण दूसरे लोगों का रहना और व्यवसाय करना दूभर सा हो गया है। यही नहीं इनके द्वारा परिवार समेत यूपी भेजने तक की भी धमकी दी जाने लगी है। आतंक व भय के साये में दर-दर भटकता और न्याय की गुहार लगाते गोस्वामी को अभी तक शासन व प्रशासन से कोई राहत मिलती नहीं दिखाई दे रही है। दूसरी स्थानिक गुंडों का उस पर हमला लगातार जारी है। गोस्वामी द्वारा उक्त मामले में कई बार वालिव पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई गयी। दबंगों के हमले के बाद पुलिस की ओर से भादंसं की धारा 326, 427, 452, 323, 504,506, 143,147,148,149 के तहत मामला दर्ज किया गया। ज्ञात हो कि वसई पूर्व चिंचोटी स्थित नदीम इंडस्ट्रियल कामडी पाड़ा, काजू फैक्ट्री के पास उग्रसेन गंगा गोस्वामी पार्टनरशिप में भंगार का व्यवसाय करता था। पार्टनरशिप से विवाद होने के बाद वर्ष 2014 में स्वयं का फेरी का व्यवसाय शुरू किया। इसके बाद 4 माह पूर्व इसी क्षेत्र में शोभा स्क्रेप नाम से भंगार का व्यवसाय शुरू कर अपने परिवार का उदर निर्वाह कर रहा हूं। मेरे ही गांव के रहने वाले मेरे मित्र धर्मेंद्र सिंह काम सीखने के लिए मेरे साथ रहते है।

सामानों में की गई तोडफ़ोड़…

स्क्रेप दुकान शुरू करते ही स्थानीय रहिवासी वनिता पाटिल द्वारा गाली-गलौज और उसके गुंडों द्वारा मारपीट की जाती आ रही है। गोस्वामी की ओर से उक्त मामले को लेकर वालिव पुलिस स्टेशन में इनके खिलाफ  प्राथमिकी दर्ज कराई गयी। 1 जुलाई 2018 की रात्री 10.00 बजे मैं अपने मित्र धर्मेंद्र के साथ घर पर था। इसी बीच दो 2-3 व्यक्ति घर आये और कहने लगे कि वालिव पुलिस मामला दर्ज क्यों कराया। यही नहीं उनके द्वारा वनिता द्वारा गाली-गलौज और मारपीट की भी बात कही गयी। गोस्वामी ने बताया कि इसी तरह वनिता का लड़का दिनेश पाटिल द्वारा घर में घुसकर लड़की व डंडे से मेरे साथ मारपीट की गयी। इस घटना में मेरे पैर में फैक्चर आ गया। मारपीट की घटना में वनिता का बड़ा लड़का भी शामिल हुआ था। 2 जुलाई 2018 को दोबारा वालिव पुलिस स्टेशन इनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गयी। वनिता पाटिल और उसके बड़े लडके द्वारा वालिव पुलिस में की गयी शिकायत पर रात्री 11.30 बजे के आसपास घर पर आकर धमकी भी दी गयी। यही नहीं वनिता का लड़का दिनेश पाटिल अपने 2-3 साथियों के साथ मारपीट और घर के सामानों को तोडफ़ोड़ भी किया गया।

मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति से गुहार…

वालिव पुलिस द्वारा इन संबंधित मामले के तहत इनकी गिरफ्तारी भी की गयी। जमानत से छूट कर आने के बाद इनके द्वारा फिर से धमकी का सिलसिला शुरू किया गया। वनिता और उसके लड़के गोस्वामी का जीना दूभर कर दिए हैं। न्याय और अपने जान माल सुरक्षा की सुरक्षा को लेकर उग्रसेन गंगा गोस्वामी मंत्री से लेकर संत्री तक का दरवाजा खटखटाया गया, लेकिन उसे किसी भी चौखट से न्याय व सुरक्षा मिलती नहीं दिखाई दे रही है। दूसरी ओर वनिता द्वारा क्षेत्र में व्यवसाय नहीं करने को कहा गया है और पुलिस से मेरे व्यावसायिक संबंध भी है। स्थानीय दबंगई की हद तक और हो गयी, जब उसके द्वारा गोस्वामी को परिवार सहित उत्तर प्रदेश भेजने तक की धमकी दी गयी। क्षेत्र में वनिता और उसके लड़के तथा इनके साथी आतंक का पर्याय बने हुए। गोस्वामी द्वारा मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और गृहमंत्री सहित पुलिस विभाग को पत्र भेजकर अपने जान-माल की रक्षा के लिए गुहार लगायी है।

Share