आतंक से प्रभावित क्षेत्रों में हर किसी को तोरबाज़ देखनी चाहिए : राज सिंह अरोरा, फिल्म में संजय दत्त का करैक्टर

फिल्म विश्व स्तर पर कर रही ट्रेंड, कहानी काल्पनिक है, पर कुछ वास्तविक जीवन के कनेक्शन

  • NDI24 नेटवर्क
    मुंबई.
    पिछले हफ्ते रिलीज़ हुई तोरबाज फिल्म में अभिनेता राजसिंह अरोरा ने क्रिकेट कोच की भूमिका निभाई हैं। फिल्म की कहानी अफगानिस्तान में सेट की गई है। फिल्म में संजय दत्त का करैक्टर युवा लड़कों के भविष्य को आकांक्षी क्रिकेटरों के रूप में ढालने के लिए निर्धारित है, जो उनको एक सामान्य जीवन जीना सीखना चाहते है, जबकि एक उग्रवादीयों का ग्रुप बच्चों को आत्मघाती हमलावर के रूप में प्रशिक्षित करना चाहता है।अभिनेता राज सिंह अरोड़ा अपने विचार जाहिर करते हुए कहते हैं कि फिल्म को जिस तरह का रिस्पांस मिल रहा है, वह देखकर मैं दंग हूं, दर्शक हमारी मेहनत की सराहना कर रहे हैं। फिल्म में उम्मीद की कहानी है और साथ ही आतंकवाद पे मानवीय नजरिये से चर्चा की गई है। तालिबान, जिहाद के नाम पर मासूम बच्चों और उनके असहाय परिवारों को अफगानिस्तान में प्रशिक्षित आत्मघाती हमलावरों में परिवर्तित कर रहा है। हालांकि कहानी काल्पनिक है, लेकिन इसमें कुछ वास्तविक जीवन के कनेक्शन है। फिल्म विश्व स्तर पर ट्रेंड कर रही है और उस प्लेटफार्म की टॉप 10 फिल्मों में से एक है। भारत में जम्मू-कश्मीर में भी ऐसी ही स्थिति है।

एक साथ 190 से अधिक देशों में प्रीमियर…

उग्रवादी असामाजिक गतिविधियों के लिए घाटी में युवाओं को प्रभावित करते रहते हैं। लंबे समय से यह संघर्ष चल रहा है, जिससे असंख्य लोगों की जान चली गई है। कट्टरपंथी इस्लामी विचारों वाले कई उग्रवादी समूह उभरे और गतिविधियों को वैचारिक रूप से बदलकर इस्लामी बना दिया। यह तभी संभव हो पाया जब सीमा पार से इस्लामी जिहादी और मुजाहिदीन आतंकवादि बड़े समूह को सुविधा दी। पाकिस्तान, बांग्लादेश, यूएई, श्रीलंका, अफगानिस्तान, मलेशिया और दुनिया के अन्य आतंकग्रस्त देशों में आतंकवाद आज एक वैश्विक समस्या है। डिजिटल प्लेटफॉर्म की वजह से हमारा कंटेंट एक साथ 190 से अधिक देशों में प्रीमियर हुआ है।

बच्चों को बहुत सारे अवसरों के लिए मिलेगा एक्सपोज़र…

फिल्म सकारात्मक तरीके से बुराई पर अच्छाई की जीत पर प्रकाश डालती है। राज कहते हैं कि मुझे यकीन है कि धारा 370 के तहत, घाटी में युवाओं और बच्चों को काम करने और खेलने के बहुत सारे अवसरों के लिए एक्सपोज़र मिलेगा। यदि हम पर्यटन का एक उदाहरण लेते हैं, जो जम्मू-कश्मीर की अर्थव्यवस्था का अभिन्न अंग था, तो हमने उसमे उग्रवाद के कारण गिरावट देखी। लेकिन जब इस क्षेत्र में शांति होगी – घरेलू और अंतरराष्ट्रीय पर्यटन पलटाव होगा। तोरबाज़ एक शक्तिशाली फिल्म है और मुझे इसका हिस्सा बनने पर गर्व है। मैं चाहता हूं कि हर कोई यह फिल्म देखे, आतंक से प्रभावित क्षेत्रों को यह फिल्म देखनी ही चाहिए। मुझे यकीन है कि फिल्म की कहानी उनके साथ प्रतिध्वनित होगी।

Share