भगवान जब पृथ्वी पर आते हैं तो वे भी ब्राह्मणों की सेवा करते हैं, श्री शनि साईं धाम मंदिर पी रोड में 21वां वार्षिक उत्सव

– NDI24 नेटवर्क
कानपुर. उत्तर प्रदेश के श्री साईं सेवा संस्थान के अंतर्गत श्री शनि साईं धाम मंदिर पी रोड, कानपुर (P Road Kanpur) में 21वें वार्षिक उत्सव में लक्ष्मी महायज्ञ एवं श्रीमद्भागवत महापुराण के सप्तम दिवस में प्रातःकाल लक्ष्मी कृपा प्राप्ति के लिए 51 किलो बेल से हवन भक्तों ने किया। सायंकाल विश्राम दिवस की कथा में पंडित दीपक कृष्ण जी महाराज (Pandit Deepak Krishna Maharaj) ने बताया कि राजा नग के चरित्र से हमें शिक्षा प्राप्त होती है कि ब्राह्मणों का अपमान नहीं करना चाहिए। ब्राह्मण सदियों से श्रेष्ठ है। भगवान भी जब राम (Ram) के रूप में अथवा कृष्ण (Krishna) के रूप में पृथ्वी पर आते हैं, तब वह भी ब्राह्मणों की सेवा करते हैं।

परमात्मा ही हमारा सच्चा मित्र है…

भगवान के परम मित्र सुदामा जी का प्रसंग वर्णन करते हुए बताया कि सुदामा ऐसा संतोषी ब्राह्मण न कोई हुआ है और न ही होगा, जिसने भगवान से कभी कुछ नहीं मांगा। भगवान सुदामा को अपना मित्र कहते थे और उन्होंने संपूर्ण जीवन में मित्रता का पालन किया। परमात्मा ही हमारा सच्चा मित्र है, जो हमारे सारे कष्टों को दूर करता है।

महेंद्र शुक्ला दद्दा समेत कई लोग उपस्थित रहे…

इस अवसर पर कथा आयोजक महेंद्र शुक्ला दद्दा, राजेंद्र शुक्ला राजू भैया तथा यजमान राजकुमार गुप्ता, सरिता गुप्ता, अनिल गुप्ता, पं. गंगा शरण दीक्षित, पं. विनोद अग्निहोत्री, पं. राहुल दुबे, पं. संतोष (पाधा जी), पं. कृष्णा मिश्रा, पं. प्रियांशु शर्मा, पूर्व पार्षद रश्मि शुक्ला, अवनीश दीक्षित, प्रतिमा दीक्षित आदि लोग उपस्थित रहे।

Share