जितेंद्र आव्हाड की ओर से लगाई गई रोक से म्हाडा रिपेयर बोर्ड अध्यक्ष विनोद घोसालकर बेहद नाराज

NDI24 नेटवर्क

मुंबई. महाराष्ट्र में म्हाडा की ओर से निर्मित ट्रांजिट कैंप के घरों के वितरण को लेकर गृह निर्माण मंत्री और म्हाडा रिपेयर बोर्ड के अध्यक्ष में आपस में ही ठन गई है। दरअसल राज्य की महाविकास आघाडी सरकार के मंत्रियों की ओर से दनादन लिए जा रहे निर्णयों से दिन-प्रतिदिन विवाद बढ़ता ही जा रहा है। राज्य के गृह निर्माण मंत्री जितेंद्र आव्हाड ने म्हाडा ट्रांजिट कैंप के घरों में धांधली की शिकायत के बाद इस मामले में तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है, तो वहीं मंत्री की ओर से लगाई गई इस पाबंदी के चलते कई पात्र और जरूरतमंद रहीवासियों के घर वितरण की प्रक्रिया पूरी तरह से थम गई है।

…ताकि जरूरतमंदों को म्हाडा दे सके घर

गौरतलब है कि घरों के वितरण में अचानक रोक लगाए जाने से म्हाडा रिपेयर बोर्ड के चेयरमैन विनोद घोसालकर न सिर्फ काफी नाराज हैं, बल्कि इससे कई लोग बेघर भी हो गए हैं। इस संबंध में विनोद घोसालकर ने गृह निर्माण विभाग को पत्र लिखकर ट्रांजिट कैंप के वितरण पर लगाई गई रोक को अविलंब हटाने की मांग की है, ताकि जरूरतमंद लोगों को घर उपलब्ध कराई जा सकें।

दलालों की ओर से फंसाने के कई मामले होते रहे हैं उजागर…


विदित हो कि म्हाडा रिपोर्ट रिपेयर बोर्ड के अंतर्गत आने वाले ट्रांजिट कैंप के घरों के वितरण का अधिकार म्हाडा के पास होता है। बिल्डिंग गिरने या किसी अनहोनी के बाद इन कैंपों में बिल्डिंगों के निवासियों को आपातकालीन स्थिति के तहत शिफ्ट किया जाता है। इसके अलावा बीमारी से जूझ रहे रहिवासियों के साथ ही अपंग किराएदार को पर्याय व्यवस्था के तौर पर मकान उपलब्ध कराए जाते हैं। मुंबई में 56 ट्रांजिट कैंप होने के नाते कई दलाल लोगों को फंसाकर मकान बेचने का मामला सामने आते रहे हैं। इन्हीं कारणों के चलते करीब एक महीने पूर्व राज्य के गृह निर्माण मंत्री जितेंद्र आव्हाड ने ट्रांजिट कैंप के नए मकानों के वितरण पर रोक लगा दी थी।

घोसालकर ने की पत्र भेजने की पुष्टि…


इस रोक के चलते कन्नामवार नगर में 145 पात्र रहिवासी लोगों के इमारत तैयार होने के बाद भी लॉटरी नहीं निकाली गई। साथ ही 25 ट्रांजिट कैंप में बने मकानों का वितरण भी रुका पड़ा है। सैकड़ों पात्र लोगों के घरों की समस्या दूर करने के लिए रिपेयर बोर्ड के अध्यक्ष विनोद घोसालकर ने गृह निर्माण विभाग को पत्र लिखकर मकानों के वितरण पर लगी रोग को जल्द से जल्द हटाने की मांग की है। साथ ही मकानों का वितरण नई प्रणाली के तहत करने की भी मांग पत्र में बात कही गई है। रिपेयर बोर्ड के कार्य में सीधे दखल देने से घोसालकर न सिर्फ नाराज हैं, बल्कि उन्होंने खुद पत्र भेजने की पुष्टि की है।

पात्र रहिवासी भी हो रहे परेशान…


ट्रांजिट कैंप के घरों के वितरण को लेकर जो रोक लगाई गई है। इससे पात्र रहवासी भी परेशान हो रहे हैं। वहीं इस मामले में नई प्रणाली के तहत घर वितरण की भी हमारी तरफ से गृह निर्माण विभाग से मांग की गई है।

  • विनोद घोसालकर, सभापति, म्हाडा मुंबई
Share