अंग्रेजों के जमाने से बने फुटओवर ब्रिज की दर्दनाक घटना'अनसुनी' की वजह बनी 27 की मौत, 10 लाख मुआवजे का ऐलान
IN DEPTH, 'अफवाहों' का पुल गिरा 'मौत' बनकर, देखिए पूरा वीडियो...
Share

अंग्रेजों के जमाने से बने फुटओवर ब्रिज की दर्दनाक घटना, ‘अनसुनी’ की वजह बनी 22 की मौत, 10 लाख मुआवजे का ऐलान

– नीरज प्रभाकर
मुंबई. मुंबई के परेल एलफिस्टन रेलवे ब्रिज पर मची भगदड़ में मरने वाले की तादाद 22 हो गई है, 36 लोग घायल हुए हैं। घायलों में कुछ की हालत गंभीर बनी हुई है। विदित हो कि यह एक मात्र ऐसा पुल है, सेंट्रल और वेस्टर्न रेलवे लाइन के लोगों की अहम कड़ी है। इस पुल पर रोजाना बड़ी संख्या में भीड़ बनी रहती है। आज बारिश की वजह से भीड़ और बढ़ गई। फिर ब्रिज में कुछ नहीं हुआ, हालांकि पुल से जुड़ा हुआ एक शेड गिर गया, जिसकी वजह भी कथित भगदड़ मानी जा रही है। वहीं प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो आज त्योहार होने की वजह से अचानक भीड़ बढ़ गई और किसी ने अफवाह उड़ा दी कि फुटओवर ब्रिज की स्लेब गिरी है, तो कहीं से आवाज आती है कि शॉर्ट सर्किट हुआ है। इन्हीं ‘अफवाहों’ के चलते परेल और एलफिस्टन फुटओवर ब्रिज पर भगदड़ मच गई, जिसके चलते कई की जान चली गई तो कई अभी भी जिंदगी और मौती की लड़ाई केईएम अस्पताल में लड़ रहे हैं। यहां देखिए दर्दनाक
वीडियो…

हर कोई बचा रहा था जान

दर्दनाक हादसे के समय मौके पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शी गोरख पराड की मानें तो वे उस मंजर को याद करते हुए बताते है कि मैं परेल की तरफ से एलफिंस्टन जाने वाला था और बारिश भी हो रही थी। दो सीढ़ी चल ही पाया था कि अचानक शोर-शराबा शुरू हो गया। फिर देखते ही देखते लोग गिरने लगे और सुरक्षा के लिहाज से पुल दोनों तरफ से एक शेड से घिरा हुआ है, ताकि रेलवे लाइन से होने वाली दुर्घटनाओं से बचा जा सके…। अंदर से चीख-पुकार सुनाई देने लगीं और एक के बाद एक आदमी एक-दूसरे के ऊपर से अपनी जान बचाकर भाग रहा था।

दर्दनाक दुर्घटना के बाद ‘मरहम’ का सिलसिला

बहरहाल, प्रथम दृष्टया तो मौत की हकीकत एक ‘अफवाह’ ही नजर आई, क्योंकि मायानगरी में रहने वाला हर मुंबईकर ऐसी समस्याओं से आए दिन दो-चार होते हैं। वहीं दूसरी तरफ अग्रेजो के जमाने से बने इस ओवर ब्रिज वाकई में बहुत सकरा है और कई बार स्थानीय लोगों व यात्रियों द्वारा शिकायत किए जाने के बावजूद नतीजा शिफर रहा। खैर, अब इस दर्दनाक घटना से जूझ रहे लोगों के लिए दुखद की घड़ी है, जिसे ‘संवेदनाओं’ और ‘ऐलानों’ से पाटा नहीं जा सकता। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस हादसे पर शोक व्यकत किया है। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि हालात पर लगातार नजर बनाए हुए हैं। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी हादसे पर दुख जताया है। पीयूष गोयल मुंबई में ही हैं और स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। महाराष्ट्र सीएम देवेंद्र फडनवीस ने मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए देने का ऐलान किया है, वहीं घायलों को हर तरह ही मेडिकल सुविधा दी जाएगी।

त्योहार और बारिश के चलते बढ़ी भीड़

वहीं दूसरी तरफ घटना स्थल के पास मौजूद रवि पोपट डोंडे बताते हैं कि मैं ऐसी भीड़ तो पीक आवर्स में हमेशा ही देखता हूं, लेकिन आज एक तो त्योहार और ऊपर से अचानक तेज बारिश होना, जिसके चलते लोग एक-दूसरे से ढंूसे हुए खड़े थे। बस, अफवाह की एक चिंगारी ने ऐसी आग पकड़ी कि हजारों की संख्या की भगदड़ में हर कोई बस अपनी ही जान बचाने की कोशिश में था। इसी के चलते लोग एक के ऊपर एक लदे जा रहे थे। महिलाएं और बच्चे चीख रहे थे, लेकिन मदद के लिए कोई आगे नहीं आया। सुरक्षा के नाम पर मुंबई पुलिस का एक जवान सीटी बजाते हुए जरूर दिखा, लेकिन दबे-कुचले लोगों को वहां पर मौजूद यात्रियों की मदद से ही अस्पताल पहुंचाया गया। लिखी ‘चिट्ठियों’ का नतीजा रहा ‘शिफरबहरहाल मृतकों को रेलवे की तरफ  से 5 लाख और महाराष्ट्र सरकार की ओर से 5 लाख, यानी 10 लाख रुपये, गंभीर घायलों को 1-1 लाख और मामलू घायलों को 50-50 हजार रुपये के मुआवजे का ऐलान जरूर कर दिया गया है। वहीं दूसरी तरफ अंग्रेजों के जमाने से निर्मित पुल की स्थिति को लेकर सालों से सैड़कों बार राजनीति के नेताओं और मुंबईकरों द्वारा लिखत रूप से समय-समय पर रेलवे के आलाधिकारियों को केंद्रीय मंत्रियों को सूचित कर गया, लेकिन नतीजा शिफर ही रहा। विदित हो कि यह पुल बहुत ही सकरा है और सुरक्षा के लिहाज से दोनों तरफ से बंद है, जिसके चलते अंदर सांस घुटने का भी भय बना रहता है।

संवेदनाओं का सिलसिला जारी…

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस ने ट्वीट किया कि महाराष्ट्र सरकार और रेल मंत्रालय हादसे की जांच करेंगे, सख्त कारज़्वाई की जाएगी। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट किया कि हादसे में जान गंवाने वाले परिवारों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं। घायलों के सेहत में सुधार पर की प्राथज़्ना करता हूं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी ट्वीट कर हादसे पर दुख जताया है। वहीं पीएम मोदी ने ट्वीट किया कि मुंबई भगदड़ में जान गंवाने वाले मृतकों के परिवारों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं।

Share