महारेरा ने कहा कि दावों को नकारा नहीं जा सकता, कमल और बबीता अग्रवाल की शिकायत

  • – NDI24 नेटवर्क
    मुंबई. जब एक डेवलपर ने एक शिकायतकर्ता को निवेशक करार दिया तो महारेरा ने बिल्डर से कहा कि शिकायतकर्ता के दावों को केवल यह कहकर नकारा नहीं जा सकता कि वह निवेशक है और आवंटी नहीं है, क्योंकि उन्होंने परियोजना में अपना पैसा लगाया है। दरअसल, एक दिलचस्प मामले में महारेरा ने एक डेवलपर से कहा कि घर-घर खरीददार के दावों से इनकार नहीं किया जा सकता है। केवल यह कहकर कि वह निवेशक और आवंटी हैं इसका कारण महारेरा ने डेवलपर को बताया क्योंकि शिकायत कर्ताओं ने महारेरा परियोजना में अपना पैसा लगाया है। वहीं कमल अग्रवाल और बबीता अग्रवाल ने सकला इंटरप्राइजेज के खिलाफ महारेरा से संपर्क किया।

संबंधित अहम खबरें…

MHADA के कई फैसले अब मंत्रालय से होंगे, महाराष्ट्र सरकार का सख्त फैसला…

जल्द निकलेगी MHADA के 2500 घरों की लॉटरी, मुंबईकरों का सपना होगा साकार

अग्रवाल परिवार का दावा…

अग्रवाल परिवार की शिकायत यह थी कि वे चाहते थे कि महारेरा बिल्डर को बिक्री के लिए पंजीकृत समझौते को निष्पादित करने को लेकर निर्देशित करें और कब्जा भी सौंप दें। अग्रवाल परिवार ने दावा किया है कि उन्होंने सागर कंपलेक्स बोइसर में 5 फ्लैट बुक किए हैं। प्रत्येक प्लेट के लिए 15 लाख रुपए का विचार किया गया है। वहीं दूसरी ओर दावा है कि उन्होंने पूरे पैसे भर दिए हैं और 9 अक्टूबर 2017 को डेवलपर की ओर से हस्ताक्षरित 5 अलग-अलग आवंटन पत्र जारी किए गए, जिन्हें विधिवत नोटरीकृत किया गया।

दोनों पक्षों का हस्ताक्षरित आवंटन पत्र…

आवंटन पत्र के अनुसार, डेवलपर 2 साल की अवधि के अंदर कब्जे को सौंपने के लिए सहमत हो गया था या फिर डेवलपर ने फ्लैटों को वापस खरीदने के लिए सहमति व्यक्त की थी। अपने दावे का समर्थन करने के लिए शिकायतकर्ता ने दोनों पक्षों की ओर से हस्ताक्षरित आवंटन पत्र सह समझौते को भी अपलोड किया।

संबंधित अहम खबरें…

MHADA करेगी ट्रांजिट कैम्पों का पुनर्विकास, विनोद घोसालकर ने की घोषणा…

Video Story : म्हाडा में दलालों का फर्जीवाड़ा, विनोद घोसालकर ने दिए सख्त कार्रवाई के आदेश

शिकायतकर्ता निवेशक है : डेवलपर

डेवलपर में शिकायतकर्ता के दावों का विरोध किया और कहा कि शिकायतकर्ता आवंटी नहीं है निवेशक है। डेवलपर ने आगे कहा कि शिकायतकर्ता निवेश उद्देश्यों के लिए डेवलपर के पास पहुंचे, जिसके लिए डेवलपर ने उन्हें सुरक्षा के तौर पर खाली आवंटन पत्र सौंपे। डेवलपर ने आवंटन पत्र की सामग्री को बताया कि शिकायतकर्ता निवेशक है, क्योंकि वह राशि का निवेश करके रिटर्न कमा रहे हैं।

डेवलपर को नहीं लेना चाहिए था धन : डॉ. विजय सतबीर सिंह

महारेरा सदस्य डॉ. विजय सतबीर सिंह ने कहा कि रेरा के प्रावधान खंड 13 में प्रावधान किया गया है कि प्रवर्तक आवंटन के साथ 10 प्रतिशत से अधिक राशि स्वीकार नहीं कर सकता है। पहले आवंटन के साथ बिक्री के लिए समझौते को पंजीकृत किए बिना सिंह ने कहा कि प्रमोटर को शिकायत कर्ताओं के साथ बिक्री के लिए पहले पंजीकरण किए बिना शिकायतकर्ता से धन स्वीकार नहीं करना चाहिए था।

संबंधित अहम खबरें…

ट्रांजिट कैंप को लेकर आवास मंत्री और सभापति आमने सामने, थम गई घर वितरण की प्रक्रिया

दक्षिण मुंबई में 272 जर्जर इमारतें अभी तक नहीं गिराई गईं, फाइलों में दबी रहती है कार्रवाई

अस्वीकारा नहीं जा सकता…

महरेरा ने डेवलपर को बताया कि यह शिकायतकर्ताओं के दावों को यह कहकर अस्वीकार नहीं कर सकता है कि वह निवेशक है और आवंटी नहीं हैं।

संबंधित अहम खबरें…

म्हाडा में दलालों का फर्जीवाड़ा, विनोद घोसालकर ने दिए कार्रवाई के आदेश | Exclusive | MHADA | ndi24

आदित्य ठाकरे की मांग के बाद म्हाडा का फैसला…

Share