कभी किसी के पीठ में खंजर नहीं घोंपा, भाजपा ने दिया सिर्फ धोखा : एकनाथ खडसे
Share

भाजपा से मोह भंग, गाजे-बाजे के साथ दिग्गज नेता एकनाथ खडसे का राकांपा में प्रवेश

– NDI24 नेटवर्क
मुंबई.
महाराष्ट्र में भाजपा के दिग्गज नेता एकनाथ खडसे ने शरद पवार की मौजूदगी में औपचारिक रूप से राकांपा में प्रवेश किया। साथ ही खडसे के साथ इस मौके पर कई अन्य समर्थकों ने भी एनसीपी का दामन थामा। खडसे के राकांपा में शामिल होने से उत्तर महाराष्ट्र में उसकी ताकत बढ़ना तय माना जा रहा है। इस दौरान खडसे ने कहा कि मैंने 40 साल तक भारतीय जनता पार्टी में राजनीति की है, लेकिन कभी किसी के पीठ में खंजर नहीं घोंपा और न ही कभी किसी महिला का सहारा लेकर वार किया है। जो भी है वह सीधे सामने सामने बात करता हूं, लेकिन यहां कुछ लोग महिलाओं का सहारा लेकर वार करते हैं। देवेंद्र फडणवीस का नाम न लेते हुए उन्होंने यह आरोप उन पर लगाए हैं।

भविष्य में सत्ता परिवर्तन के पूरे आसार…

एकनाथ खडसे ने राकांपा ज्वाइन करने के बाद मंच पर बोलते हुए कहा कि वह एनसीपी के लिए भाजपा से ज्यादा सीटें चुनकर लाएंगे। जितनी मेहनत उन्होंने भाजपा के लिए की है, उससे ज्यादा मेहनत करेंगे। जलगांव जिला में जितने भी जिला परिषद हैं, उनके लिए मैंने बहुत मेहनत की है और यह सब आने वाले समय में राकांपा की हो जाएंगी। जलगांव शहर की महानगर पालिका में भी भाजपा का कब्जा है, जिसके कई पार्षदों के एकनाथ खडसे के संपर्क में होने की चर्चाएं हैं। ऐसे में महानगर पालिका में भी भविष्य में सत्ता परिवर्तन के पूरे आसार हैं। ग्रामीण इलाके में सावदा, यावल और भुसावल नगरपालिका में भी सत्ता परिवर्तन हो सकता है।

एकनाथ खडसे और जलगांव एक दूसरे के पूरक…

विदित हो कि महाराष्ट्र में जब उत्तर महाराष्ट्र की बात आती है तब सबसे बड़े नेता के रूप में सबसे पहला नाम एकनाथ खडसे का आता है और एकनाथ खडसे का नाम आते ही जलगांव का नाम जुबान पर आता है। इस तरह से एकनाथ खडसे और जलगांव एक दूसरे के पूरक हैं। महाराष्ट्र में सत्ता किसी भी पार्टी की रही हो लेकिन एकनाथ खडसे का किला माना जाने वाला उत्तर महाराष्ट्र हमेशा अभेद्य रहा है। जलगांव में और आसपास के जिलों में एकनाथ खडसे की बादशाहत बीते 25 सालों से कायम है। खडसे भाजपा से 6 बार विधायक चुने गए हैं। इतना ही नहीं जिला परिषद में भी उन्होंने कांग्रेस को खत्म कर भाजपा का झंडा बीते 30 सालों से फहराया है। इसके अलावा जिले में भुसावल, फैजपुर, यावल, मुक्ताई नगर और वारणगांव नगरपालिका और नगर परिषद में भाजपा की ही सत्ता है। मिल्क फेडरेशन के अध्यक्ष के पद पर खडसे की पत्नी मंदाकिनी हैं तो जिला बैंक के अध्यक्ष पद पर उनकी बेटी रोहिणी खडसे हैं। इस तरह से यहां पर एनसीपी का जबरदस्त फायदा भविष्य में होने वाला है।

टाइगर अभी जिंदा है : कैबिनेट मंत्री

वहीं दिलचस्प बात यह है कि महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री जयंत पाटिल ने एकनाथ खडसे का स्वागत करते हुए यह कहा कि उनके साथ में उनकी पुरानी पार्टी में अच्छा बर्ताव नहीं किया गया। एकनाथ खडसे के साथ में जब उनकी पार्टी के लोग ऐसा कर रहे थे, तब भी मैंने सभागृह में यह सवाल किया था कि कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा इस बात का जवाब मुझे आज तक नहीं मिला है। अब जब एकनाथ खडसे राकांपा में शामिल हो चुके हैं तो लोगों को यह जरूर पता चलेगा कि टाइगर अभी जिंदा है।

Share