मनपा अधिकारी सही जानकारी देने में कर रहे टालमटोल
मनपा टैक्सदाताओं को कब मिलेगा 1 लाख का बीमा लाभ!
Share

स्वच्छता कर पर हाई रैंकिंग दिलाने वाले अधिकारी को साइड लाइन करने और अधिकार छीनने की हो रही कवायद

– NDI24 नेटवर्क
विरार. वसई विरार मनपा में प्रत्येक माह होने वाली मनपा आम महासभा में कई महत्वपूर्ण विषयों पर सत्तापक्ष की ओर से चर्चा की गयी, लेकिन नागरिकों का सबसे महत्वपूर्ण जरूरत पानी का प्रस्ताव मनपा महासभा से गायब दिखाई दिया। मनपा कर्मचारी की सेवानिवृति को रद्द करने और स्थापित करने के विषय पर पूर्व उप महापौर उमेश नाईक ने प्रशासन के कार्यों पर सवाल उठाया गया, वहीं इनके द्वारा लापरवाही करने वाले अधिकारियों पर क्या कार्रवाई किये जाने की बात कही गयी। आयुक्त द्वारा उक्त मामले पर सुधार करने की बात कही गयी। महासभा में एस.टी.पी. प्लांट बनाने की बात कही गयी है। उक्त महासभा में मुख्य मुद्दा मालमत्ता टैक्स में उपभोक्ता टैक्स का था। इस मुद्दे पर आयुक्त ने यह केंद्र सरकार के स्वच्छता का यूजर टैक्स बताया। हालांकि स्वच्छता कर के विषय पर स्वच्छता अधिकारी ही गायब दिखाई दिए।

नागरिकों पर क्यों लादा जा रहा अतिरिक्त टैक्स का बोझ…

VVCMC को स्वच्छता में हाई रैंकिंग दिलाने वाले अधिकारी को साइड लाइन करने और उसके अधिकार छीनने की चर्चा मनपा उच्च अधिकारीयों में चर्चा का विषय बना हुआ है। उपभोक्ता कर के इस विषय पर सक्रिय सामाजिक कार्यकर्ता शंकर झा ने कहा कि जब यह टैक्स और किसी महानगर पालिका में नहीं लिया जा रहा है। तो यहा इतनी जल्दबाजी क्यों। आम नागरिकों पर अतिरिक्त टैक्स का बोझ क्यों लादा जा रहा है। उन्होंने कहा कि मनपा की स्वच्छता विभाग के काम काज में और सुधार किया जाना चाहिए था । बरसात के बाद भारी जल भराव और अंडर ग्राउंड ड्रेनेज कि मांग की गयी। हालांकि जागरूक नागरिकों द्वारा उक्त विषय को कई महीनों से उठाते आ रहे है। दूसरी ओर मनपा और विभाग के आरक्षित प्लॉट पर हुए अतिक्रमण पर भी चर्चा की गयी। आरक्षित जमीन फिलहाल कितनी, कहां और किस स्थिति में तथा कितने पर अतिक्रमण हुआ है और कितना खाली है। इसे संरक्षित करने का भी मामला उठाया गया है ।

Share