पुनर्विकास रोकने के लिए 420 बिल्डरों को नोटिस, म्हाडा की सख्त कार्रवाई...
Share

NOC में बाद भी 579 इमारतों का रुका हुआ है पुनर्विकास

– NDI24 नेटवर्क
मुंबई.
मुंबई में बाढ़ आने पुरानी और टूटी-फूटी इमारतों के पुनर्विकास के लिए बिल्डरों को एनओसी दे दी है, लेकिन फिर भी 579 इमारतों का पुनर्विकास रुका हुआ है। इमारतों की विकट स्थिति के बावजूद म्हाडा ने 420 बिल्डरों को नोटिस भेजने की प्रक्रिया शुरू कर दी है, जो वर्षों से पुनर्विकास को रोके रखे हैं।

कई लोगों को पुनर्विकास का इंतजार…

Mhada की ओर से लिए गए इस कदम ने बिल्डरों को डरा दिया है। मुंबई में करीब 14000 इमारतों में कोई नहीं रहता है। यह सभी इमारतें बहुत अधिक खतरनाक स्थिति में हैं। अब तक म्हाडा ने बिल्डरों को 1728 इमारतों के पुनर्विकास शुरू करने के लिए नोटिस दिया है। 579 इमारतों का पुनर्विकास कई वर्षों से पूरा नहीं हुआ है। फिर भी ऐसी इमारतों में कई लोग मजबूरी में रह रहे हैं और उन्हें पुनर्विकास का इंतजार है।

कुछ न कुछ कारण बता रहे बिल्डर…

NOC मिलने पर बिल्डर को पुनर्विकास का काम शुरू करना अनिवार्य है, लेकिन कुछ न कुछ कारण देकर बिल्डरों ने इस काम की शुरुआत ही नहीं की है। इमारतें धोकादायक होने के बावजूद बिल्डर कितने समय और पुनर्विकास की प्रक्रिया रोकना चाहते हैं इस बात पर म्हाडा ने उनको नोटिस भेजा है।

लटका रहे पुनर्विकास की प्रक्रिया…

आरआर बोर्ड के अधिकारी अरुण डोंगरे ने इस बात को बहुत गंभीर रूप से लिया है। उनका प्रयास इन इमारतों का जल्द से जल्द पुनर्विकास है। एनओसी मिलने पर बिल्डरों को इमारतों का पुनर्विकास शुरू करना आवश्यक है, लेकिन बिल्डरों ने इसका भी ध्यान नहीं रखा और पुनर्विकास की प्रक्रिया लटका रहे हैं।

पुनर्विकास का काम शुरू करें बिल्डर…

पुनर्विकास रोकने के लिए 250 बिल्डरों को नोटिस भेजने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और साथ ही इसका भी ध्यान रखा जा रहा है कि जल्द से जल्द बिल्डर पुनर्विकास का काम शुरू कर दें।
– अरुण डोंगरे, ऑफिसर, आरआर बोर्ड, म्हाडा

Share