तोगडिय़ा और उनके समर्थकों ने किया हंगामा, सुचारु रूप से नहीं हो सका चुनाव
वीएचपी संगठन से प्रवीण तोगडिय़ा और राघव रेड्डी की छुट्टी
Share

तोगडिय़ा और उनके समर्थकों ने किया हंगामा, सुचारु रूप से नहीं हो सका चुनाव

– NDI24 नेटवर्क
नई दिल्ली. चौदह अप्रैल को गुरुग्राम में विश्व हिंदू परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगडिय़ा और विश्व हिंदू परिषद के अध्यक्ष राघव रेड्डी को वीएचपी संगठन के कार्यकारी बोर्ड की बैठक में हटा दिया जाएगा। आरएसएस के नेतृत्व ने विश्व हिंदू परिषद को निर्देश दे दिया है कि जरूरत पडऩे पर संगठन के संविधान के अनुसार संगठन के चुनाव भी कराए जा सकते हैं। संघ की पसंद वी. कोकजे नए वीएचपी अध्यक्ष बन सकते हैं। वीएचपी के कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगडिय़ा और वीएचपी के अध्यक्ष राघव रेड्डी का कार्यकाल पिछले साल दिसंबर में ही खत्म हो गया था। आरएसएस राघव रेड्डी की जगह वी. कोकजे को अध्यक्ष बनाना चाहता था, लेकिन तोगडिय़ा और उनके समर्थकों ने हंगामा करके चुनाव को नहीं होने दिया था।

…तो सरकार की ताकत होगी कम

पिछले महीने नागपुर में संघ की प्रतिनिधि सभा की बैठक में प्रवीण तोगडिय़ा और राघव रेड्डी को संघ नेतृत्व ने साफ कर दिया था कि दोनों को अपने पद छोडऩे पड़ेंगे। आपको बता दें कि प्रवीण तोगडिय़ा और पीएम मोदी के बीच लड़ाई पुरानी है। संघ और वीएचपी के नेता भी पीएम मोदी और तोगडिय़ा की इस लड़ाई से हर तरह से वाकिफ  हैं। संघ को पता है कि‍ पूरा विपक्ष 2019 के आम चुनाव में मोदी सरकार और बीजेपी के खिलाफ लामबंद होने जा रहा है। ऐसे में अपने संगठनों ने भी अगर सरकार और बीजेपी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया तो सरकार की ताकत भी कम होगी और मुश्किलें भी बढ़ जायेगी, जिसका खामियाजा चुनाव में उठाना पड़ेगा।

Share