सरकार की लोकतांत्रिक व्यवस्था पर आरोप लगाते हुए प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा
होनहार और काबिल प्रद्युत बोरा ने दिया इस्तीफा
Share

लोकतांत्रिक व्यवस्था पर आरोप लगाते हुए प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा

– NDI24 नेटवर्क

असम. असम में भारतीय जनता पार्टी के नेता और आईटी सेल के संस्थापक प्रद्युत बोरा ने पार्टी और सरकार की लोकतांत्रिक व्यवस्था पर आरोप लगाते हुए अपनी प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। इतना ही नहीं उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की कार्यशैली पर प्रश्न चिन्ह लगाए हैं। 41 वर्षीय बोरा ने आरोप लगाया है कि दल का माहौल ऐसा नहीं रहा जिसे ‘पार्टी विद अ डिफरेंस’ के नजरिए से देखा जा सके। अमित शाह को भेजे गए चार पन्ने के इस्तीफे में बोरा ने पीएम मोदी और पार्टी अध्यक्ष की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था को चोट पहुंचाई है।

असम में बढ़ रहे जूनियर अमित शाह

बोरा ने कहा कि भाजपा में बावलेपन का माहौल है। हर कीमत पर चुनाव जीतने की लालसा ने दल के मूल्यों को खत्म कर दिया है। पार्टी अब वैसी है ही नहीं, जिसका मैं 2004 में सदस्य बना था। बोरा ने यह भी कहा कि उन्हें कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और असम गण परिषद (अगप) की ओर से सदस्य बनने की पेशकश हुई है, लेकिन वे फिलहाल किसी से जुडऩे के बारे में सोच नहीं रहे हैं। उन्होंने अपने इस्तीफे में लिखा है कि मैं दल में, कम से कम असम में जूनियर अमित शाहों को बढ़ते हुए देख रहा हूं। ये आपकी (शाह) काबिलियत के दसवें हिस्से के बराबर हैं और इनमें आप से ज्यादा अहंकार है।

Share