Special Story : 5 विश्व प्रसिद्ध क्रिकेटर, जिन्होंने कभी वर्ल्ड कप नहीं खेला

50 ओवर वर्ल्ड कप सबसे बड़ा टूर्नामेंट माना जाता है और हर क्रिकेटर का सपना होता है

– NDI24 नेटवर्क
मुंबई.
क्रिकेट में 50 ओवर वर्ल्ड कप सबसे बड़ा टूर्नामेंट माना जाता है और हर क्रिकेटर का सपना होता है कि वो वर्ल्ड कप का हिस्सा बने और अपने देश के लिए ट्रॉफी जीत कर लाए। कई खिलाड़ी अपने देश के लिए तमाम टूर्नामेंट खेलते हैं, लेकिन उनमें से कुछ ही वर्ल्ड कप टीम का हिस्सा बन पाते हैं। कई खिलाड़ी तो ऐसे भी हैं, जिन्होंने कई सालों तक अपने देश के लिए कई बड़े और प्रतिष्ठित टूर्नामेंट खेले हैं, लेकिन वर्ल्ड कप में खेलने का उन्हें कभी भी मौका नहीं मिला। हम आपको कुछ ऐसे ही क्रिकेटर्स के नाम बताने जा रहे हैं, जो क्रिकेट की दुनिया में बहुत बड़े नाम हैं, बावजूद इसके वो कभी भी अपने देश की वर्ल्ड कप टीम का हिस्सा नहीं बन सके।

वी.वी.एस. लक्ष्मण (भारत)…

सबसे पहले बात करते हैं, वेरी वेरी स्पेशल कहे जाने वाले वी.वी.एस. लक्ष्मण की। लक्ष्मण भारत के जाने-माने खिलाड़ी रहें हैं, जिन्होंने करीब 16 साल तक क्रिकेट में अपना योगदान दिया, लेकिन उन्हें भारत की वर्ल्ड कप टीम में कभी भी मौका नहीं मिला। टेस्ट क्रिकेट के इस धुरंधर खिलाड़ी ने 134 टेस्ट मैच खेलकर 8 हजार से भी ज्यादा रन बनाए। वहीं वन-डे में लक्ष्मण ने 86 मैच ही खेले और उनके नाम सिर्फ 6 शतक ही हैं। हालांकि 2003 के वर्ल्ड कप से पहले पूरी उम्मीद थी कि लक्ष्मण को वर्ल्ड कप टीम में मौका दिया जाएगा, लेकिन आखिरी समय में उनकी जगह पर दिनेश मोंगिया को टीम में शामिल कर लिया गया। 

एलेस्टर कुक (इंग्लैंड)…

इंग्लैंड के एलेस्टर कुक क्रिकेट की दुनिया की एक जाना- माना नाम हैं, लेकिन इस खिलाड़ी ने कभी भी 50 ओवर वर्ल्ड कप नहीं खेला है। कुक 10 हजार रन बनाने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट में भी शामिल हैं। इसके अलावा वो टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड के कप्तान रहे हैं और उन्होंने इंग्लैंड को एशेज सीरीज के कई मैचों में जीत भी दिलाई है। बावजूद इसके कुक कभी भी वर्ल्ड कप नहीं खेल सके। 

क्रिस मार्टिन (न्यूजीलैंड)…

साल 2000 में डेब्यू करने वाले क्रिस मार्टिन को कभी भी न्यूजीलैंड की तरफ से वन-डे वर्ल्ड कप में नहीं चुना गया। इस तेज गेंदबाज ने अपने 13 साल के करियर में 71 टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें उसके नाम 233 विकेट दर्ज हैं। मार्टिन, रिचर्ड हेडली और डेनियल विटोरी के बाद न्यूजीलैंड के तीसरे खिलाड़ी हैं, जिनके नाम सबसे ज्यादा विकेट दर्ज हैं। वहीं वन-डे की बात करें तो मार्टिन 20 वन-डे मैचों में उनके नाम महज 18 विकेट लिए हैं। यही वजह है, मार्टिन कभी भी वर्ल्ड कप टीम के लिए सेलेक्टर्स को राजी नहीं कर पाए। 

मैथ्यू होगार्ड (इंग्लैंड)…

तेज गेंदबाज मैथ्यू होगार्ड का नाम इंग्लैंड के टॉप-10 विकेट टेकर में आता है, बावजूद इसके ये खिलाड़ी कभी भी 50 ओवर वर्ल्ड कप नहीं खेल सका। अपने 8 साल के क्रिकेट करियर में होगार्ड ने 67 टेस्ट मैच खेलकर 248 विकेट लिए लेकिन वो वनडे में अपना प्रदर्शन नहीं दिखा पाए, लिहाजा सेलेक्टर्स ने कभी भी होगार्ड को वर्ल्ड कप टीम के लिए नहीं चुना।

जस्टिन लैंगर (ऑस्ट्रेलिया)…

जस्टिन लैंगर का नाम विश्व के चुनिंदा बल्लेबाजों में आता है, लेकिन ये खिलाड़ी कभी भी 50 ओवर वर्ल्ड कप नहीं खेला है। 14 साल के अपने करियर में लैंगर ने टेस्ट मैंचों में 7 हजार से भी ज्यादा रन बनाए, लेकिन वन-डे में लैंगर के बल्ले का कोई कमाल देखने को नहीं मिला। लैंगर का वनडे करियर 8 मैचों तक ही सीमित रहा और उनके नाम महज 160 रन ही दर्ज हैं। लैंगर के इसी खराब वन-डे प्रदर्शन ने उन्हें हमेशा वर्ल्ड कप टीम से दूर रखा।

Share