Special Story : UPI क्या होता है? जानिए इसकी ख़ासियत और फायदे
Share

UPI एक रियल टाईम पेमेंट सिस्टम है, जो IMPS (Immediate Payment Service) तकनीक पर आधारित है

– NDI24 नेटवर्क
मुंबई.
UPI का पूरा नाम है, Unified Payments Interface। UPI एक रियल टाईम पेमेंट सिस्टम है, जो IMPS (Immediate Payment Service) तकनीक पर आधारित है। ये एक ऐसा तरीका है, जिसकी मदद से आप कहीं पर भी किसी भी समय अपने बैंक अकाउंट से पैसे अपने दोस्त के अकाउंट में या रिश्तेदारों के अकाउंट में भेज सकते हैं। अगर आप किसी को पेमेंट करना चाहते हैं तो भी आप आसानी से UPI की मदद से पैसे दे सकते हैं। खास बात यह है कि इसे नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ़ इंडिया (NPCI) ने विकसित किया है और इसका नियंत्रण रिजर्व बैंक और इंडियन बैंक एसोसियेशन के हाथ में है।

UPI की खास बातें…

1- IMPS की मदद से तुरंत फंड ट्रांसफर होता हो इसमें और NEFT से कम समय लगता है।
2- किसी भी समय, छुट्टियों वाले दिन भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।
3- IFSC कोड और मोबाइल नंबर का इस्तेमाल कर रकम ट्रांसफर कर सकते हैं।
4- हर पेमेंट को अधिकृत करने के लिए मोबाइल पिन और पिन की जरूरत होती है।
5- इसमें बिल शेयरिंग फैसिलिटी भी होती है।
6- यह सुरक्षित और तेज होता है।

UPI कैसे काम करता है?

UPI की सेवा का लाभ उठाने के लिए आपको एक Virtual Payment Address तैयार करना होता है। फिर इसे आपको अपने Bank Account से लिंक करना होता है। यही Virtual Payment Address आपका वित्तीय पता बनता है। इसके बाद आपको अपना बैंक अकाउंट नंबर, बैंक का नाम या IFSC Code आदि याद रखने की जरूरत नहीं पड़ती है। पेमेंट करने वाले को बस आपके मोबाइल नंबर के हिसाब से Payment Request Process करनी होती है और वह पेमेंट आपके बैंक अकाउंट में आ जाता है।

UPI के फायदे, वित्तीय सेवाएं…

1- Money ट्रान्सफर करना
2- Money प्राप्त करना
3- बिल भुगतान करना
4- Money Request करना

 सामान्य सेवाएं…  

– OTP generate करना।
– PIN बनाना और Change करना।
– Virtual Payment Address बनाना और Change करना।
– किसी  Transaction संबंधित शिकायत करना।
– लेन-देन का पूरा विवरण रखना।
– बैंक में जमा कुल धनराशि जांचना।

UPI का उपयोग कैसे करें…

UPI का उपयोग Mobile Application के माध्यम से किया जाता है| UPI शुरू करने के लिए निम्न चीजों की जरूरत होती है…

Bank Account…

– Mobile number जो बैंक खाता से जुड़ा होना चाहिए।
– एक स्मार्टफोन जिसमें इंटरनेट की सुविधा होनी चाहिए।
– एक डेबिट कार्ड (एटीएम कार्ड) जिससे MPIN बनाया जाएगा।
– एक UPI Mobile App।

Share