अधिकतर अस्पतालों में फायर NOC नहीं, अवैध निर्माण में चल रहे नर्सिंग होम और क्लीनिक्स

NDI24 नेटवर्क
मुंबई. डॉक्टर को भगवान का दूसरा रूप कहा जाता है। मगर मुंबई में 1319 रजिस्टर्ड अस्पताल हैं, जिनमें से ज्यादातर अस्पतालों में फायर NOC नहीं है और उसी तरह से एम पूर्व में सभी नर्सिंग होम और अस्पताल अवैध रूप से बने ईमारत या झोपड़पट्टियों में चल रहे हैं। ऐसा हम नहीं कह रहे हैं, बल्कि एम पूर्व विभाग की ओर से दी RTI में दी गई जानकारी से पता चला है।
पूरा वीडियो देखिए यहां…

एम पूर्व की हद में अवैध अस्पताल…


मुंबई के RTI एक्टिविस्ट शकील अहमद शेख ने एम पूर्व विभाग में सूचना अधिकार के अंतर्गत जानकारी मांगी थी कि एम पूर्व की हद में बिना लाइसेंस के अवैध रूप से कितने नर्सिंग होम और अस्पताल चल रहे हैं और जिन नर्सिंग होम और अस्पतालों को लाइसेंस दिया गया है। क्या उनके पास मुंबई अग्निशन दल तथा ईमारत एवं कारखाना विभाग से NOC मिली है, इसकी जानकरी मांगी थी।

किसी प्रकार का लाइफ सेविंग बैकअप नहीं…


मिली जानकारी के मुताबिक एम पूर्व की हद में बिना लाइसेंस के अवैध रूप से कुल 49 नर्सिंग होम और अस्पताल चल रहे है और पूरे मुंबई में 1319 से ज्यादा नर्सिंग होम और अस्पताल चल रहे हैं। इन अस्पतालों में किसी प्रकार का लाइफ सेविंग बैकअप नहीं है। इन नर्सिंग होम और अस्पतालों में ऑपरेशन से लेकर औरतों की डेलिवरी तक कराई जाती है। जबकि 39 नर्सिंग होम और अस्पतालों को लाइसेंस दिया गया है। उन नर्सिंग होम और अस्पतालों को अग्निशन दल तथा ईमारत एवं कारखाना विभाग से NOC नहीं मिली है।

FIR दर्ज करने की मांग…


हाल में ही शकील शेख ने शिवाजी नगर पुलिस थाने को पत्र लिखा है और FIR दर्ज करने की मांग किया है, उक्त संबंध में शिवाजी नगर पुलिस ने एम पूर्व के वैधकीय अधिकारी डॉ. हरीश नौनी को पत्र लिखकर FIR दर्ज करवाने के लिए स्टेटमेंट दर्ज करने के लिए बुलाया है। मगर आज संबंधित अधिकारी FIR दर्ज कराने शिवाजी नगर पुलिस थाने में हाजिर नहीं हुए।

किसी हादसे का जिम्मेदार कौन?


एम पूर्व की हद में बिना लाइसेंस के अवैध रूप से कुल 49 नर्सिंग होम और अस्पताल चल को MOH हरीश नाउनी ने सिर्फ नोटिस देकर अपना पलड़ा झाड़ लिया है और जिन 39 नर्सिंग होम और अस्पतालों को अग्निशन दल तथा ईमारत एवं कारखाना विभाग के बिना NOC लाइसेंस कैसे दिया। अगर कोई हादसा होगा तो उसका जिम्मेदार कौन होगा।

  • शकील शेख, आरटीआई कार्यकर्ता
Share